खुद ही में खुद . . .

“खुद ही में खुद एक अँधेरा हूँ मैं,
उन कुछ रातों में एक बसेरा हूँ मैं. . .”



– Kabir Malik ©/ 2016

Advertisements