अब कैसे कह दूं . . .

“अब कैसे कह दूं मैं ज़िन्दगी जी गया,
सुनहरे उस प्याले में ज़हर मैं पी गया. . .”


– Kabir Malik ©/ 2016

Advertisements