“इन आँखों में . . . .

“इन आँखों में मेरे ग़म अब सूख गए हैं,
अतीत के वो बंजर लम्हें हम भूल गए हैं. . .”

©/ Kabir Malik

Advertisements